प्रधानमंत्री जन-औषधि योजना से बनाएं अपना भविष्य।

सरकार हमेशा नए नए रोज़गार के अवसर बढ़ाने के लिए योजनाए लाती रहती है। और हम भी आपके लिए योजनाओं की पूरी जानकारी लाते रहेंगे। आज के सरकरी रोज़गार के अवसर में आपको प्रधामंत्री जन औषधि योजना के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं। जिससे आप लाभ ले सके और इसमें रुचि हो तो अपना भविष्य बना सके।

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना भारत के प्रधानमंत्री ‪नरेन्द्र मोदी‬ जी द्वारा ‬1 जुलाई 2015 को घोषित की गई थी। इस योजना में सरकार द्वारा उच्च गुणमवत्ता वाली जैनरिक (Generic) दवाईयों के दाम बाजार मूल्य से कम किए गये हैं। सरकार द्वारा हर छोटे-बड़े शहरों में ‘जन औषधि स्टोर’ बनाए जा रहे हैं, जहां जेनरिक दवाईयां उपलब्ध करवाई जा रही है। और लोगों को रोजगार भी मिल रहा है।

जेनरिक दवाईयां ब्रांडेड या फार्मा की दवाईयों के मुकाबले बहुत ही सस्ती होती है, जबकि प्रभाव में उनके बराबर ही होती है। प्रधानमंत्री जन औषधि अभियान का मुख्य लक्ष्य जनता को जागरूक करने के लिए शुरू किया गया हैं, ताकि जनता समझ सके कि ब्रांडेड मेडिसिन की तुलना में जेनेरिक मेडिसिन कम मूल्य पर उपलब्ध हैं साथ ही इसकी क्वालिटी में किसी तरह की कमी नहीं हैं। साथ ही यह जेनेरिक दवायें मार्केट में मौजूद हैं जिन्हें आसानी से प्राप्त किया जा सकता हैं।

इस योजना में आम नागरिकों को बाजार से 60 से 70 फीसदी कम कीमत पर दवाइयां दी जाएंगी। इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार जल्द ही देशभर में हज़ारों की संख्या से ज्यादा जन औषधि केंद्र खोलेगी।

जन औषधि केंद्र खोलने के लिए पात्रता-

अगर आप जन औषधि केंद्र खोलना चाहते हैं तो आपके पास पर्याप्त जगह होनी चाहिए । यह जगह किराए की भी हो सकती है ।
जन औषधि केंद्र के लिए 120 स्क्वायर फीट जगह होना आवश्यक है । जिसका निर्णय सरकारी संस्था स्वयं देख कर करती है ।
आवेदनकर्ता के पास फार्मीस्ट की अंकसूची होना चाहिए । रिटेल ड्रग लाइसेंस एवं टिन नंबर भी होना चाहिए ।

पिछले 3 सालों का फाइनेंसियल रिकॉर्ड भी होना चाहिए । जिसका परीक्षण Bureau of Pharma PSUs of India (BPPI) के द्वारा किया जाता है ।

प्रधानमंत्री जन-औषधि योजना के लाभ-
इस योजना में बड़ी से बड़ी एवम घातक बिमारियों के उपचार के लिए जेनेरिक दवाईयाँ उपलब्ध कराई जायगी साथ ही यह लोगो के बजट में भी होंगी |

कम कीमत होने पर भी दवाई की गुणवत्ता उच्च होगी। जिसकी पूरी गारंटी जन औषधि अभियान ने लोगो को एवम विक्रेताओं को दी हैं |

जेनेरिक दवाओं के प्रति जनता को जागरूक करने का कार्य भी जन औषधि अभियान के तहत किया जायगा।

जन औषधि अभियान के तहत डॉक्टर्स एवम सरकारी अस्पतालों को भी जेनेरिक दवाओं की गुणवत्ता समझाते हुए उन्हें मरीज को यही दवायें पर्चे पर लिख कर देने के लिए प्रेरित किया जायेगा ।

साथ ही समय पर जेनेरिक दवायें उपलब्ध करवाने की जिम्मेदारी भी जन औषधि अभियान के तहत आएगी |

अब आपको बताते हैं कि कौन – कौन जन औषधि स्टोर ओपन कर सकता हैं।

  • कोई भी व्यक्ति जिसके पास फार्मासिस्ट की डिग्री हो।
  • NGO हो या
  • कोई भी इंस्टिट्यूट हो सकता हैं।

जन औषधि के लिए एप्लीकेशन दे सकता हैं |

अगर कोई व्यक्ति जन औषधि योजना के लिए आवेदन कर रहा हैं, तो उसके पास अपनी दुकान के लिए पर्याप्त जगह होना चाहिये साथ ही वह किसी अन्य संस्था के आधीन कार्यशील नहीं होना चाहिये।

जन औषधि स्टोर के लिए सरकार करती है मदद-

  • जंन औषधि स्टोर खोलने के लिए सरकार स्टोर मालिको को कार्य शुरू करने के लिए 2 लाख रूपये देती है।
  • कंप्यूटर जैसे हार्डवेयर लगाने के लिए 50 हजार रूपये की मदद की जाती है।
  • जन औषधि स्टोर मालिको के लिए दवायें MRP से 16 % कम में दी जाती हैं।
  • जहाँ से मालिक सीधे कमाई कर सकते हैं

इसके अलावा सरकार की जाने वाली बिक्री के अनुसार इंसेंटिव भी देती है।

जन औषधि खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज होने चाहिए?

  • आवेदन करने वाले व्यक्ति का आधार कार्ड एवं
  • Pan Card की आवश्यकता होगी।
  • संस्थान/NGO/हॉस्पिटल/चैरिटेबल संस्था को आवेदन करने के लिए आधार कार्ड।
  • पैन कार्ड तथा
  • गठन का प्रमाणपत्र एवं पंजीयन प्रमाण पत्र की आवश्यकता होगी।

जन औषधि केंद्र खोलने के लिए आपके पास कम से कम 10 वर्ग मीटर की जगह होनी चाहिए। आप चाहे तो किराये पे भी ले सकते है।

जन औषधि स्टोर खोलने वाले को क्या होंगे फायदे।

  • दवाइयों पर प्रिंट कीमत से 16% तक का प्रॉफिट।
  • दो लाख रुपयों तक की आरंभिक वित्तीय सहायता।
  • जन औषधि स्टोर को 12 महीनों के लिए उसकी sale का 10% अतरिक्त इंसेंटिव दिया जायेगा। जो अधिकतम 10000 रूपये हर महीने होगा।

पूवोत्तर राज्यों/ नक्शल प्रभावित इलाकों/ आदिवासी इलाकों में यह इंसेंटिव 15% और इंसेंटिव राशी 15000 रुपये हर महीने होगी।

अगर आप भी जन औषधि स्टोर में अपना भविष्य देख रहे है तो जल्दी कीजिये और सम्बन्धित कार्यालय में जाकर या इसकी वेबसाइट में जाकर अपना फॉर्म भरिये।

वेबसाइट –

http://janaushadhi.gov.in/