DNA क्या है | DNA Full Form | DNA Fingerprinting in Hindi

नमस्कार दोस्तों ! ऑनलाइन जॉब अलर्केट के फुल फॉर्म पोर्टल  में आपका स्वागत है | आज की पोस्ट में हम आपको मेडिकल फिल्ड से सम्बंधित एक और उपयोगी जानकारी देने जा रहे हैं | DNA के बारे में तो लगभग सबने सुना ही हुआ है। और काफी लोग तो इसके बारे में जानते भी होंगे।
कि आखिरकार DNA होता क्या हैं ? पर बहुत से लोग ऐसे भी है, जिन्होंने इसका नाम तो सुना होता है, परन्तु यह क्या होता हैं इसकी जानकारी उन्हें नहीं पता होता। आज की पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे हैं कि DNA क्या है | DNA Full Form  क्या है | इसका क्या महत्व है और इसका कहाँ कहाँ उपयोग होता है  | DNA Fingerprinting in Hindi आदि | तो आइये शुरू करते हैं ।

DNA Full Form

DNA Ka Full Form? DNA Full Form

दोस्तों DNA मेडिकल फिल्ड का एक महत्वपूर्ण शब्द है | और DNA का फुल फॉर्म होता है –

  • D- DEOXYRIBO
  • N- NUCLEIC
  • A- ACID

अब तीनो शब्दों की मिलकर देखें तो DNA Ka Full Form होता है “DEOXYRIBO NUCLEIC ACID” |  और DNA का हिंदी में मतलब होता है “डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल” |

DNA क्या होता है ? DNA Means

DNA सभी जीवित कोशिका (cell) का गुणसूत्रों (chromosomes) मे पाये जाने वाले तन्तुंनुमा अणु (fibrous molecule) को DNA कहा जाता है।
DNA एक मोलिक़ुय्ल होता है जिसमे सभी जीवों के जेनेटिक कोड मौजुद होता है।चाहे वो मनुस्य हो, पेड पौधे, कीटाणु आदि।

DNA का आकार ?

DNA एक घुमावदार सीढी की तरह होता है, और यह हर जीवित मानव शरीर में पाया जाता है।

DNA क्यूं जरूरी है ?

DNA हर उस इन्सान के लिये जरूरी है जो जीवित है। क्युकि DNA में अनुवांशिक (HEREDITY) गुण होते है जो जीवित कोशिका के लिये आवश्यक है।
एक बच्चे का DNA उसके माता पिता के DNA के मिश्रण बना होता है । यही करण है कि बच्चे के रंग, कद, आंखे, नाक, आदि माँ-बाप से मिलते है।

DNA की खोज किसने की ?

DNA की खोज वर्ष 1953, वेज्ञानिक जमेस और फ्रांसिस क्रीक ने किया था। इस खोज के लिये इन्हें 1962 में नोबल पुरष्कार से सम्मानित किया गया था ।

DNA संरचना | DNA Structure

  • हमारे शरीर मैं रक्त कोशिका को छोडकर हर कोशिका में DNA पाये जाते है। आश्चर्य की बात ये है की ये कभी मरता नही है, ये एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी में ट्रांसफर होता रहता है।
  • हर कोशिका में DNA 0.09 माइक्रोमीटर की जगह घेरता है।
  • 1 ग्राम DNA में 700 टेराबाईट की जानकारी संरक्षित करता है।
  • और 2 ग्राम DNA में पूरी दुनिया के इंटरनेट डाटा को संरक्षित कर सकता है।

आज के टाईम में DNA का महत्व  ?

  • आज की दुनिया में DNA की सहायता से बहुत खोज की गयी है। जैसे मैडिकल लाईन मै, कृषि क्षेत्र में, कानुनी जाँच में, फोर्सिंक जाँच में आदि
  • DNA से किसी भी बच्चे के माता पिता उसके भाई बहन का पता चल जाता है।
  • DNA से कोई भी अनुवांशिक बिमारी का पता लगाया जा सकता है और आने वाली बिमारी के रोकथाम भी करा जा सकता है।
  • मनुष्य में 23 जोड़ी क्रोमोसोमस होते है।

दोस्तों अब आपको डीएनए के एक महत्वपूर्ण उपयोग के सम्बन्ध dna fingerprinting के बारे में बताते हैं |

DNA Fingerprinting क्या होता है |

जैसा की हमने आपको बताया कि हमारे शारीर की लगभग हर कोशिका में DNA पाये जाते है | और वह सभी कोशिकाएं चाहे वे रक्त (BLOOD) की हों या शुक्राणु या त्वचा की  की या बाल की, सभी कोशिकाओं से एक ही प्रकार के D N A चित्र प्राप्त होते हैं | ये पट्टी चित्र ही DNA Fingerprint कहलाते हैं |

अगर आप किसी की D.N.A Fingerprinting करवाना चाहते हैं तो उसके  लिए मुख्य रूप से जैविकीय नमूनों की जरूरत पड़ती है  | इन जैविकीय नमूनों में ख़ून के धब्बे, वीर्य की कुछ बूँदें, जड़ सहित बाल का टुकड़ा,  त्वचा कोशिकाएं, अस्थि मज्जा, मुंह में रखा कपड़ा,  या किसी ऊतक की कोशिकाएं शामिल की जा सकती हैं |

निष्कर्ष :

दोस्तों आज की पोस्ट में हमने आपको मेडिकल फिल्ड से सम्बंधित एक महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की है | आज की पोस्ट में हमने आपको बताया है कि DNA क्या है | DNA Full Form  क्या है | इसका क्या महत्व है और इसका कहाँ कहाँ उपयोग होता है  | DNA Fingerprinting in Hindi आदि |

अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई होतो इसे अपने मित्रों के साथ जरुर शेयर करें. अगर आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई सवाल है तो हमें जरुर लिखें,

हम अपने ब्लॉग ऑनलाइन जॉब अलर्ट के फ्री फॉर्मेट पोर्टल में हमेशा कुछ न कुछ उपयोगी जानकारी पोस्ट करते रहते हैं. इसीलिए आप हमारे ब्लॉग को जरुर सब्सक्राइब करें और हमारी मोबाइल एप को डाउनलोड करें.

जय हिन्द जय भारत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *