ग्राम विकास अधिकारी कैसे बने? Gram Vikas Adhikari Vacancy

अगर आप देश के ग्रामीण एरिया में रहते हैं या वहां पर सरकारी नौकरी करना चाहते हैं तो आपके लिए VDO यानि ग्राम विकास अधिकारी की जॉब सबसे अच्छी है, VDO अराजपत्रित एक सरकारी कर्मचारी ही होता है, जिसे गाँव के प्रधान का सचिव कहा जाता है, इसे आप पंचायत का सेवक भी कह सकते है, लेकिन सरकार ने पंचायत सेवक के नाम को बदलकर ग्राम विकास अधिकारी (Village Development Officer) रख दिया है, VDO ऑफिसर पंचायती राज विभाग का कर्मचारी होता है, और यह विभाग का एक महत्वपूर्ण पद है | आज की पोस्ट में आपको ग्राम विकास अधिकारी कैसे बने – Gram Vikas Adhikari Vacancy की पूरी जानकारी दे रहे हैं ,

VDO क्या है- VDO Full Form

· VDO की फुल फॉर्म होती है Village Development Officer और जिसका मतलब ग्राम विकास अधिकारी , लेकिन शोर्ट में इसे VDO कहते हैं.

· VDO पंचायत सचिव एवं न्याय मित्र भी कहलाता है | आपको यह आनकारी भी होनी चाहिए की ग्राम पंचायत में मुख्य जनप्रतिनिधि मुखिया, उपमुखिया, ग्राम पंचायत सदस्य, समिति, सरपंच व पंच आदि भी शामिल होते है |

· और इन सभी ग्राम पंचायत सदस्य के अधिकार भी अलग अलग होते है जिससे एक ग्राम पंचायत अच्छे ढंग से गाँव का विकास कर सके |

· कोई भी ग्राम पंचायत गांव के स्तर पर पंचायती राज व्यवस्था के भारत में एक स्थानीय स्व-सरकारी संगठन का आधार है, और इनके सरपंच अपने निर्वाचित प्रमुख के रूप में काम करते हैं |

VDO के लिए योग्यता-

· VDO बननें के लिए आपको 12वीं पास होना आवश्यक है | इसीलिए 12TH के बाद यह एक अच्छा सरकारी नौकरी का विकल्प माना जाता है,

· VDO का बहुत सारा काम आजकल कंप्यूटर द्वारा किया जाता है इसीलिए आपको कंप्यूटर का ज्ञान होना आवशयक है और इस पोस्ट के इए CCC कम्प्यूटर कोर्स में डिप्लोमा होना भी आवश्यक है |

VDO आयु सीमा-

· ग्राम विकास अधिकारी (VDO) के लिए आयु सीमा भी देखी जाती है, और लगभग 18 वर्ष से 40 साल तक के बीच में मांगी जाती है,

· रिज़र्व केटेगरी जैसे OBC अभ्यर्थियों को 3 साल तथा SC/ST अभ्यर्थियों को 5 साल तक की छूट दी जाती है |

VDO का चयन कैसे होता है –

ग्राम विकास अधिकारी (VDO) की जॉब के लिए आपको उत्तर प्रदेश सेवा चयन आयोग UPPSSC द्वारा आयोजित परीक्षा को पास करना होता है |
VDO भर्ती में चयन तीन चरणों से होता है-

  • प्रथम चरण में अभ्यर्थी को लिखित परीक्षा देनी होती है |
  • लिखित परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों को द्वितीय चरण में यानी साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है तथा
  • तृतीय चरण के अंतर्गत शारीरिक योग्यता की जाँच (PHYSICAL TEST) परीक्षा होती है|

शारीरिक योग्यता जाँच

यह इस पोस्ट का सबसे अंतिम औ महत्वपूर्ण भाग है, क्योंकि पढ़ाई के साथ साथ आपको शारीरिक रूप से भी काबिल होना चाहिए,

इस परीक्षा में शारीरिक व्यायाम, 1 मील दौड़, लम्बी कूद, 4 मील सायकिल रेस एवं 2 मील टहलना आदि सम्मिलित होते है |

VDO परीक्षा पेटर्न और समय –

ग्राम विकास अधिकारी की लिखित परीक्षा के लिए आपको एक घंटे तीस मिनट का समय दिया जाता है,

  •  जिसमें 30 अंक के 30 प्रश्न हिंदी और लेखन क्षमता से सम्बन्धित होते हैं,
  • 20 प्रश्न जनरल एप्टीट्यूड टेस्ट के दिए जाते हैं,
  • 30 प्रश्न सामान्य जागरूकता से सम्बन्धित होते हैं
  • दूसरे चरण में साक्षात्कार के लिए 20 अंक निर्धारित किये हुए है |

VDO के कार्य-

  •  ग्राम विकास अधिकारी (VDO) को पंचायत कार्यालय का प्रभारी भी कहा जाता है, यह गाँव में पंचायत कार्यालय संबंधित कार्यों को देखते है | जिनमें सरकारी योजनाओं का लेखा-जोखा देखना होता है और उन्हें सुरक्षित रखना भी होता है | ग्राम प्रधान के द्वारा पास किया गया बजट और उनके कागजात संबंधी कामों को भी VDO ही देखते है |
  • किसी भी गाँव में न्याय संबंधित कार्यों की जिम्मेदारी सरपंच और पंच की होती है लेकिन उनकी कागजी कार्रवाई एवं लेखा-जोखा का काम भी VDO द्वारा किया जाता है, और इन्हें न्याय सहायक ((न्याय मित्र) के रूप में भी देखा जाता है|

ग्राम विकास अधिकारी VDO के अधिकार-

VDO के ऊपर पूरे गाँव की ज़िम्मेदारी होती है, वह गाँव में हो रहे सभी कार्यों की देख रेख करता है, इनके मुख्य कार्य इस प्रकार है –

  • · सरकार द्वारा आवंटित पूँजी कोष की जिम्मेदारी VDO की होती है, कितना खर्च हुआ, कहाँ खर्च हुआ सभी काम देखने होते हैं,
  • · गाँव के विकास के लिए बैठकों का कार्य-व्यवहार संभालना और उनमें अनुशासन बनाए रखना भी इनकी जिम्मेदारी है,
  • · गाँव के विकास के लिए एक वर्ष में ग्राम सभा की कम से कम चार बैठकों का आयोजित करना भी इनका दायित्व है,
  • · गाँव में विभिन्न निर्माण कार्यों जैसे सड़के, नेहर को अपनी देखरेख में बनवाना और फीसों की वसूली आदि भी इसके कार्यों में शामिल है,
  • · ग्राम पंचायत द्वारा पास की गई सभी योजनाओं और प्रस्तावों को लागू करवाना भी VDO का काम है,
  • · गाँव के विकास के लिए बनाए गए रजिस्टरों तथा पंचायत संबंधी कागजात के रख-रखाव का इंतजाम करना भी इनका काम है,
  • · ग्राम पंचायत में कार्य करने वाले सभी कर्मचारियों की देख-रेख करना और उन्हें दिशा निर्देश व नियंत्रण करना भी ग्राम विकास अधिकारी का काम है,

ग्राम विकास अधिकारी की सैलरी-

· किसी भी नौकरी को करने से पहले उसकी सेलरी जान लेना बहुत जरुरी होता है क्योंकि अगर सेलरी आपके मुताबिक नहीं होगी तो नौकरी करने का कोई फायदा नहीं है, आपको बता दें की VDO (Gram Vikas Adhikari) के पद की सैलरी लगभग रु० 5200 से लेकर रु० 20200 रुपये प्रतिमाह तक के बीच होती है, और अन्य सरकारी नौकरियों की तरह सुविधाएँ और भत्ते भी मिलते है|

निष्कर्ष –

दोस्तों आज हमने अपनी पोस्ट में ग्राम विकास अधिकारी कैसे बने – Gram Vikas Adhikari Vacancy भर्ती की पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, अगर इसके अतिरिक्त भी आपको कोई जानकारी चाहिए तो हमें कमेन्ट करें, और अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आई हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया व्हाट्स और फेसबुक में जरुर शेयर करें , हम अक्सर इसी तरह की सरकारी नौकरी की जानकारी लाते रहते हैं, इसीलिए आप हमारी एप ऑनलाइन जॉब अलर्ट को प्ले स्टोर से जरुर डाउनलोड करें और समय समय पर अपदे करें – जय हिन्द

कौनसा कैरियर चुने ? | Career Option in India

One Comment on “ग्राम विकास अधिकारी कैसे बने? Gram Vikas Adhikari Vacancy”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *